4921 फीट की ऊंचाई पर शेरगांव में पहली बार मतदान केन्द्र

4921 फीट की ऊंचाई पर शेरगांव में पहली बार मतदान केन्द्र

जयपुर। राजस्थान विधानसभा चुनाव- 2023 में सुगम और समावेशी मतदान सुनिश्चित करने के उद्देश्य से प्रदेश में दुर्गम, दूरदराज और कम आबादी वाले क्षेत्रों में भी निर्वाचन विभाग द्वारा मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी प्रवीण गुप्ता ने कहा कि कोई भी मतदाता मतदान केन्द्र तक पहुंच नहीं पाने के कारण मताधिकार से वंचित न रहे, इस दिशा में निर्वाचन आयोग के निर्देश पर विशेष तैयारियां की गई हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दुर्गम पहाड़ी इलाकों से लेकर, बहुत कम आबादी वाले मरुस्थलीय क्षेत्र में भी मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। सिरोही जिले के आबू-पिंडवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में 4921 फुट की ऊंचाई पर स्थित शेरगांव के मतदाता इस वर्ष पहली बार अपने ही गांव में मतदान कर पाएंगे। मतदान दल फोरेस्ट गार्ड की मदद से घने जंगल में करीब 18 किलोमीटर तक पगडंडियों पर पैदल चल कर इस मतदान केन्द्र तक पहुंचेगा। यहां 117 मतदाताओं के लिए मतदान केन्द्र बनाया गया है। पहले शेरगढ़ के मतदाताओं को वोट देने के लिए दूरदराज के एक और उतरज गांव में मतदान केन्द्र तक आना होता था। इस बार, उतरज गांव में 238 मतदाताओं के लिए मतदान केन्द्र बनाया गया है।

राजस्थान के सबसे उंचे मतदान केंद्र शेरगांव के लिए मतदान दल शुक्रवार को रवाना हो गया। सिरोही के नवीन भवन विद्यालय से प्रशिक्षण के बाद यह दल रवाना हुआ। माउंट आबू के गुरुशिखर से करीब 18 किलोमीटर पैदल चलकर यह मतदान दल शेरगांव पहुंचेगा। यहां पर 117 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। निर्वाचन विभाग की ओर से पहली बार शेरगांव में मतदान केंद्र बनाया गया है।

बाड़मेर जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के करीब स्थित बाड़मेर का पार गांव में महज 35 मतदाताओं के लिए मतदान केन्द्र बनाया गया है। बाड़मेर जिले के ही एक अन्य गांव मंझोली में 49 मतदाताओं के लिए पहली बार मतदान केंद्र बनाया गया है। इस बार इस गांव के मतदाताओं को वोट देने के लिए पांच किलोमीटर दूर नहीं जाना पड़ेगा। कांटल का पार गांव में 50 मतदाताओं के लिए मतदान केन्द्र बनाया गया है। जैसलमेर के मेनाउ मतदान केंद्र पर केवल 50 मतदाता हैं। मतदान के दिन वहां टेंट में एक अस्थायी बूथ स्थापित किया जा रहा है। धौलपुर जिले के बसेड़ी विधानसभा क्षेत्र में काली तीर मतदान केन्द्र भी पहली बार बनाया गया है। डांग क्षेत्र में स्थित इस मतदान केन्द्र पर 682 मतदाता हैं। पहले यहां के मतदाताओं को 7.5 किलोमीटर दूर स्थित मतदान केन्द्र पर जाना होता था।

Tags:

About The Author

Latest News

 तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ में पुलिस कर्मियों के प्रशिक्षण तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ में पुलिस कर्मियों के प्रशिक्षण
अंबेडकरनगर।  मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.राजकुमार के निर्देश पर तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के द्वारा रविवार को पुलिस लाइन सभागार में पुलिस...
दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा चलाया जा रहा है नशा मुक्त भारत अभियान
सीसीटीवी की निगरानी में बीएसजी ज्ञान प्रतियोगिता सम्पन्न - एएसओसी
एएसपी ने किया थाना लालगंज का आकस्मिक निरीक्षण,दिए निर्देश
भारतीय कुर्मी महासभा की बैठक में सांगठनिक विस्तार पर जोर
हक और हिस्सेदारी के लिये संघर्ष तेज करेगी जन अधिकार पार्टी
मण्डलायुक्त ने वितरित किया नियुक्ति पत्र