डीपफेक मुद्दों पर रेल संचार मंत्री के साथ स्टेरक होल्डर से हुई बातचीत

डीपफेक मुद्दों पर रेल संचार मंत्री के साथ स्टेरक होल्डर से हुई बातचीत

लखनऊ। देश में डीपफेक के मामलों की चर्चा जोरों पर फैलने लगी है।गुरुवार को डीपफेक से उत्पन्न मुद्दों पर स्टेरकहोल्डर्स के साथ रेल, संचार एवं इलैक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रोद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव की खास बातचीत हुई। वहीं चर्चा के दौरान डीपफेक दुनिया भर में लोकतंत्र और सामाजिक संस्थाओं के लिए एक गंभीर खतरा बनकर उभरा है। सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से डीपफेक सामग्री के प्रसार ने इस चुनौती को और बढ़ा दिया है।साथ ही इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ('एमईआईटीवाई') ने समय-समय पर सोशल मीडिया मध्यस्थों को डीपफेक के खिलाफ शीघ्र कार्रवाई करने की सलाह दी है।
 
मंत्री अश्विनी वैष्णव ने डीपफेक पर प्रभावी प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर शिक्षा जगत, उद्योग निकायों और सोशल मीडिया कंपनियों फेसबुक, एक्स पूर्व में ट्विटर, व्हाट्सएप, टेलीग्राम, कू, स्नैपचैट आदि के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की। चर्चा में बनी सहमति में सरकार, शिक्षा जगत, सोशल मीडिया कंपनियां और संयुक्त रूप से डीपफेक का जवाब देने की दिशा में काम करेंगे। इस बात पर भी सहमति हुई कि अगले 10 दिनों के भीतर निम्नलिखित आधार स्तंभों पर कार्रवाई योग्य बिन्दुपओं की पहचान की जाएगी। जिसमें पता लगाना ऐसी सामग्री पोस्ट करने से पहले और बाद में डीपफेक सामग्री का पता लगाया जाना चाहिए।रोकथाम: डीपफेक सामग्री के प्रसार को रोकने के लिए एक प्रभावी तंत्र होना चाहिए।
 
रिपोर्टिंग प्रभावी और शीघ्र रिपोर्टिंग और शिकायत निवारण तंत्र उपलब्ध होना चाहिए। डीपफेक के मुद्दे पर व्यापक जागरूकता पैदा की जानी चाहिए ।इसके अलावा, तत्काल प्रभाव से, डीपफेक के खतरे को रोकने के लिए आवश्यक नियमों का आकलन और मसौदा तैयार करने के लिए एक उपाय प्रारंभ करेगा। इस प्रयोजन के लिए,पोर्टल पर जनता से टिप्पणियाँ आमंत्रित करेगा। स्तंभीय संरचना को अंतिम रूप देने के लिए दिसंबर के पहले सप्ताह में संबंधित स्टेरकहोल्डरों के साथ एक अनुवर्ती बैठक फिर से आयोजित की जाएगी। भारत सरकार प्रौद्योगिकी का लाभ उठाकर और सार्वजनिक जागरूकता को बढ़ावा देकर डीपफेक के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए प्रतिबद्ध किया जाएगा।
Tags: lucknow

About The Author

Latest News

ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
उज्जैन। उज्जैन में जीवाजी वैधशाला परिसर में नवस्थापित विक्रमादित्य वैदिक घड़ी को देखने बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे है।...
अबू धाबी में कृषि और मत्स्य पालन पर सहमति के बिना डब्ल्यूटीओ वार्ता समाप्त
उज्जैन: ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा आज मुरैना जिले से करेगी मप्र में प्रवेश
झारखंड विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा
जिला अस्पताल परिसर में सरकारी दवाएं कूड़े के ढेर पर पड़ी मिली
बागेश्वर धाम में 108 कुंडीय अति विष्णु महायज्ञ शुरू