फिर से डोली नेपाल की धरती

The land of Nepal swayed again

फिर से डोली नेपाल की धरती

nerpalनई दिल्ली: भारत के पड़ोस में एक बार फिर से धरती डोली है. नेपाल में उस वक्त लोग सहम उठे, जब तड़के भूकंप का झटका महसूस हुआ. नेपाल विज्ञान केंद्र ने बताया कि नेपाल में रात करीब 1.20 बजे (गुरुवार तड़के) भूकंप आया, रिक्टर सेक्ले पर जिसकी तीव्रता 4.5 थी और इसका केंद्र मकवानपुर जिले के चितलांग में था. फिलहाल, इस भूकंप से अब तक किसी जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है. मगर रात में भूकंप के झटके महसूस होने के बाद से लोग खौफ में दिखे.

बता दें कि नेपाल के ही  जाजरकोट में तीन नवंबर को 6.4 तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें कम से कम 153 लोग मारे गए थे और हजारों लोग बेघर हो गए थे. भूकंप से नेपाल का यह इलाका काफी बुरी तरह प्रभावित हुआ है और लोग तंबुओं में रहने को मजबूर हैं. इसकी वजह से लोग अब ठंड की चपेट में भी आ रहे हैं. बीते दिनों तंबू में रहने वाले पांच लोग ठंड की वजह से मर चुके हैं. स्थानीय अधिकारियों के अनुसार, जाजरकोट में 34,000 से अधिक परिवार तंबुओं में रह रहे हैं क्योंकि भूकंप से उनके आवास पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए हैं.

इससे पहले 17 नवंबर को म्यांमार में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. पूर्वोत्तर म्यांमार में बीते शुक्रवार की सुबह भूकंप का झटका महसूस किया गया. अमेरिकी भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण के अनुसार, 5.7 तीव्रता का भूकंप शान राज्य के केंग तुंग शहर से लगभग 76 किमी दक्षिण पश्चिम में केंद्रित था. भूकंप लगभग 10 किमी गहरा था. फिलहाल, इस भूकंप में किसी जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं थी.

भूकंप आए तो क्या करें और क्या नहीं
1- अगर आप किसी इमारत के अंदर हैं तो फर्श पर बैठ जाएं और किसी मजबूत फर्नीचर के नीचे चले जाएं. अगर कोई मेज या ऐसा फर्नीचर न हो तो अपने चेहरे और सर को हाथों से ढंक लें और कमरे के किसी कोने में दुबककर बैठ जाएं.
2- अगर आप इमारत से बाहर हैं तो इमारत, पेड़, खंभे और तारों से दूर हट जाएं.
3- अगर आप किसी वाहन में सफर कर रहे हैं तो जितनी जल्दी हो सके वाहन रोक दें और वाहन के अंदर ही बैठे रहें.
4- अगर आप मलबे के ढेर में दब गए हैं तो माचिस कभी न जलाएं, न तो हिलें और न ही किसी चीज को धक्का दें.
5- मलबे में दबे होने की स्थिति में किसी पाइप या दीवार पर हल्के-हल्के थपथपाएं, जिससे कि बचावकर्मी आपकी स्थिति समझ सकें. अगर आपके पास कोई सीटी हो तो उसे बजाएं.
6- कोई चारा न होने की स्थिति में ही शोर मचाएं. शोर मचाने से आपकी सांसों में दमघोंटू धूल और गर्द जा सकती है.
7- अपने घर में हमेशा आपदा राहत किट तैयार रखें.

About The Author

Latest News

रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित
रांची। रिम्स के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल एवं वेट लैब स्थापित किया गया है। रिम्स...
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन चार मार्च को जाएंगे गिरिडीह
मतदान के प्रति जागरूक करना हमारी नैतिक जिम्मेवारी: निदेशक
सीआईडी ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार
जबलपुर इंजीनियरिंग कालेज को "टेक्नोलॉजी हब" बनाने की दिशा में हो क्रियान्वयन: मंत्री परमार
मंत्री कृष्णा गौर ने की गुफा मंदिर में महाशिवरात्रि आयोजन की तैयारियों की समीक्षा
अपने लोगों पर गर्व करने की परंपरा करनी होगी विकसित: उच्च शिक्षा मंत्री परमार