जहां डेंगू के केस सिर्फ वहीं फॉगिंग करा रही पालिका:

कई वार्डो में डेंगू के केस मिलने पर ही हो रही फॉगिंग,

-सितम्बर से नवम्बर तक डेंगू का खतरा बरकारार, जिम्मेदार बेख़बर
-कई वार्डो में अब तक नहीं पहुचीं मशीनें, रोस्टर कागजों पर दौड़ रहा
उन्नाव, । हर साल डेंगू-मलेरिया के सीजन में नगर पालिका दो से तीन बार सभी वार्डों में फॉगिंग करता है, पर इस बार सभी वार्ड पूरी तरह से एक बार भी फॉगिंग से कवर नहीं हो पाए। क्योंकि इस बार पालिका टीमें केवल वहां फॉगिंग कर रही है, जहां डेंगू केस मिल रहे हैं। जबकि वार्डों के सदस्य कई जगह इस नीति के विरोध में है। उनका कहना है कि फॉगिंग कार्य में केवल सरकारी रिकॉर्ड के डेंगू केस को आधार नहीं माना जाना चाहिए, क्योंकि काफी संख्या में डेंगू संदिग्ध व मच्छर जनित अन्य रोगों से ग्रस्त लोग सरकारी रिकॉर्ड के बाहर है, जो निजी क्लीनिकों व अस्पतालों में इलाज करवा रहे हैं। इसलिए उनकी मांग है कि बीते कई वर्षों पहले जैसे सभी वार्डों में दो से तीन चरण में फॉगिंग कराई जाए।
 
32 वार्ड, करीब 49 हजार मकान व ढाई लाख से अधिक आबादी वाले उन्नाव शहर में डेंगू का असर जारी है। आए दिन डेंगू के नए मरीज सामने आ रहे हैं। डेंगू पीड़ितों में बच्चों से लेकर युवा तक शामिल हैं। इनदिनों पालिका प्रशासन की ओर से शहर में फाॅगिंग तो कराई जा रही है। फाॅगिंग के नाम पर मशीन धुआं तो फेंक रहीं हैं लेकिन मच्छर नहीं मार पा रही हैं। जिससे जिम्मेदारों की कार्यप्रणाली पर ही सवाल उठ रहे। गौर करे कि डेंगू के मच्छरों का प्रकोप सितंबर से नवंबर माह के बीच सर्वाधिक होता है। इसको देखते हुए शासन ने नगर पालिका को बाकायदा निर्देश जारी करते हुए न सिर्फ फागिंग अभियान तत्काल शुरू करने को कहा बल्कि डेंगू के लार्वा नष्ट कराने का अभियान चलाने का भी निर्देश दिये थे।
 
डेंगू के लार्वा मिलने वाले प्रतिष्ठानों के खिलाफ चालान काटने के भी निर्देश जारी किए गए थे पर उस कार्यवाही की गति भी बेहद धीरी रही। 31 अक्टूबर को अभियान खत्म हुआ तो पालिका शांत बैठ गई। तब से प्रशासन की नींद टूटने का नाम नहीं ले रही है। अब सिर्फ ड़ेंगू प्रभावित इलाकों में ही टीम का पहुचना हो रहा है। सफाई व सेनेटजरी इंस्पेक्टर रश्मि पुष्कर ने बताया कि हवलदारों व सफाई कर्मियों को निर्देश देते हुए कई बिंदु समझाए गए है। कूड़े को निर्धारित स्थान पर डंप किया जा रहा। सफाई हवलदार खुद जाकर प्रभावित क्षेत्र में फॉगिंग करा रहे है। नई टीम के गठन के साथ नया रोस्टर बनाया जाएगा।  
 
फॉगिंग: डबल बैरल मशीन खराब:
पालिका के पास चार छोटी व एक बड़ी फॉगिंग मशीनें रनिंग में है।  इसके बाद भी फंगिंग व्यवस्था बेपटरी है। रोस्टर के मुताबिक न ही लार्वा का छिड़काव हो रहा, न ही फॉगिंग कराई जा रही। इधर, खराब पड़ी डबल बैरल मशीन की मरम्मत पर भी ध्यान नही दिया गया। जिसकी वजह से बड़े वार्ड व परिक्षेत्र में छिड़काव टेढ़ी खीर लग रहा। हालांकि जिम्मेदार जल्द व्यवस्थाएं पटरी पर लाने का दावा कर रहे है।
 
Tags: Unnao

About The Author

Latest News

पुलिस मुठभेड़ में दो बदमाश घायल, तीन गिरफ्तार पुलिस मुठभेड़ में दो बदमाश घायल, तीन गिरफ्तार
गिरफ्तार बदमाशों ने तीन दिन पूर्व बैंक संचालक लूट की घटना को दिया था अंजाम
विद्युत कटौती से परेशान लोग सड़क पर उतरे, विभाग ने संभाला
मुख्यमंत्री योगी ने विनायक दामोदर सावरकर को श्रद्धांजलि दी
पत्रकारिता में निष्पक्षता के साथ पारदर्शिता होनी चाहिए : महेन्द्रनाथ
दिल्ली से यूपी में आकर चेन स्नेचिंग करने वाला शातिर लुटेरा पुलिस मुठभेड़ में घायल
कुएं में गिरे युवक की मौत, कार्रवाई में जुटी पुलिस
हिस्ट्रीशीटर बदमाश का शॉर्ट एनकाउंटर, घर में घुसकर युवती से किया था दुष्कर्म