अध्यापक को सरल व्यवहारअपनाना चाहिए, गुस्से में शिक्षण कार्य नहीं होता : जै़दी

शाहजहांपुर। टीचर्स एसोसिएशन मदारिस-ए-अरबिया के तत्वाधान में आधुनिक विषय हेतु छः दिवसीय रिफरेशर कोर्स सोमवार से मदरसा नूरूल हुदा बिजलीपुरा, जनपद शाहजहाँपुर में शुरु हुआ। जिसमें शिक्षा विभाग के विषय विशेषज्ञों तथा मदरसा शिक्षा परिषद के सदस्यों ने शिक्षण की प्रक्रिया, छात्रों से वार्तालाप तथा पठन पाठन आदि के बारे में विस्तृत रुप से बताया। टीचर्स एसोसिएशन मदारिस-ए-अरबिया के तत्वावधान में आयोजित प्रशिक्षण शिविर का शुभारम्भ करते हुये मुख्य अतिथि उ0प्र0 मदरसा शिक्षा परिषद की सदस्या प्रोफेसर डा. यासमीन सुल्तान नक्बी एवं सदस्य अजमल हुसैन जै़दी ने कहा कि मदरसा शिक्षको को आधुनिक विषयों प्रशिक्षण दिलाने का कार्य शिक्षकों और छात्र हित में अच्छा प्रयास है। उन्होंने शिक्षकों से इस प्रशिक्षण में उपस्थित रह कर लाभ उठाने की सलाह दी। उन्होने कहां कि अध्यापक को एक सरल व्यभार अपनाना चाहिए गुस्से में शिक्षण कार्य नहीं होता है बच्चों को अपना दोस्त बनाकर ही शिक्षण कार्य कराना चाहिए। जी.एफ. कालेज के प्रोफेसर सैय्यद मोहम्मद नोमान ने कहा कि प्रशिक्षण का उददेश्य नवाचार है। बच्चों को खेल खेल में और सुरुचिपूर्ण ढंग से पढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि अध्यापक को अपना गरिमा रखनी चाहिए। अध्यापक की बात बच्चे आसानी से मान लेते है। बच्चों की उत्तम शिक्षा देने की जिम्मेदारी अध्यापकों की है। इसलिये अध्यापकों को पहले स्वयं प्रशिक्षण लेकर बच्चों को बेहतर से बेहतर शिक्षा देना होगी। उन्होने कहा कि एक शिक्षक का दायित्व है कि वह बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास में सहायक हो। प्रशिक्षण से बहुत कुछ सीखने का मौका मिलता है ऐसे अवसरों का लाभ उठाने की जरुरत है। संचालन एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष इकबाल हुसैन उर्फ फूलमियां ने किया। इससे पूर्व प्रशिक्षण का आगाज हाफिज साअदत ने तिलावते कुरआने पाक से किया। इस मौके पर प्रशिक्षक पी.के. सिंह, ओम प्रकाश, रामशंकर, सुशील कुमार, रस्तोगी, नेहा खान, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मकरंद प्रसाद आदि उपस्थित थे। इससे पूर्व उ0प्र0 मदरसा शिक्षा परिषद के सदस्य अजमल जै़दी एवं यासमीन सुल्तान नक्वी का पी.डब्लू,डी. गेस्ट हाउस में उनके प्रथम आगमन पर फूल मालाएं पहनाकर ज़ोरदार स्वागत किया गया। इस मौके पर इकबाल हुसैन उर्फ फूलमियां, अज़ीम बेग, जावेद खां, मोईन खां, शारिक अली खां, सैयद हैदर अली, सैयद शारिक अली, जावेद अख्तर कासमी, मौलाना इमरान कासमी, इकबाल खां आदि लोग मौजूद थे।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper