बालू माफियाओं पर कसा शिकंजा, 40  ट्रक किया जब्त, अंधेरे में चलता था अवैध उत्खन्न का कारोबार

बिक्रमगंज। जिले के बिक्रमगंज अनुमंडल अंतर्गत कराकाट थाना क्षेत्र के गोडारी बाजार पर रविवार को रात्रि एसडीओ विजयंत और डीएसपी राज कुमार संयुक्त रूप से अभियान चलकर ओभरलोडिंग 40 बालू लदे ट्रकों को जब्त किया।

अधिकारियों ने 40 ओभरलोडिंग जब्त ट्रकों को प्रखंड कार्यालय परिसर और सड़क किनारे, पेट्रोल पंप के पास खड़ा कराया गया है। अधिकारियों के इस अभियान से बालू कारोबारियों और ट्रक मालिको में हड़कम्प मच गया है। विदित हो कि माफियों द्रारा रात के अंधेरे में बालू का उत्खन्न कर स्थानीय पुलिस की मिलीभगत से ठिकानों तक पहुचाया जाता रहा है। इधर एक सप्ताह से सोन घाट से ओभरलोडिंग पानी टपकते ट्रकों के कतार देख लोग भी हतप्रभ थे। रबिवार के करवाई के बाद ट्रक मालिको में भी तरह तरह की बात हो रही है, प्रतिदिन सैकड़ो ओभरलोडिंग बालू लदे ट्रक बिक्रमगंज अनुमंडल क्षेत्र के नासरीगंज, कराकाट, बिक्रमगंज, नटवार, और दिनारा थाना क्षेत्र से होकर गुजरता है लेकिन प्रशासन की नजर नही पड़ती थी ओभरलोडिंग ट्रकों से टपकती पानी से सड़क खराब हो रही थी वही सम्बंधित थाने की पुलिस और बालू कारोबारी दिन रात मालामाल हो रहे थे।

सूत्रों के बातो पर यकीन किया जाय तो रोहतास के सोन घाट से निकलने वाले यह बालू उतर प्रदेश के भी कई  जिलों में जाता है जबकि अभी अपने जिले में ही बालू की घोर किल्लत है। वावजूद लोगो को ऊची कीमत अदा कर बालू की खरीददारी करनी पड़ रही है और  कारोबारी ऊंचे कीमत वशूल कर बिहार से बाहर बालू  भेज रहे है। ओभरलोडिंग के खिलाफ चले अभियान और जब्त की गई ट्रकों के बारे में कोई भी अधिकारी अस्पष्ट रूप से कुछ भी बोलने से कतरा रहे है। एसडीओ विजयंत से इस संबध में पूछे जाने पर बताने से परहेज करते हुए कहा कि जिला खनन अधिकारी से बात कर ले। जब कि जिला खनन अधिकारी ने एसडीओ से बात करने की बात कह कनेक्शन काट दी।जबाकी 50 बालू लदे ट्रकों के खिलाफ करवाई कर जब्त किए जाने की चर्चा है।हालांकि इसकी आधिकारिक तौर पर फिलहाल पुष्टि नही की जा रही है।हालांकि बालू कारोबारियों पर रात के अंधेरे में की करवाई से जहां हड़कम मचा हुआ है वही अन्य राज्यो से आने वाली व बालू की ढुलाई करने ट्रकों पर प्रशासनिक शिकंजा कसने से इसका लाभ जिलेवासियों को भी मिलेगा।

 

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper