किसी को भी हो सकती है पैनिक अटैक की समस्या…

नई दिल्ली: लगातार बढ़ रही समस्याओं के बीच आजकल पैनिक अटैक भी एक तेजी से बढ़ती समस्या साबित हो रही है। यह एक ऐसी स्थिति है, जो व्यक्ति के मन में मौत का डर भर देती है। कभी-कभी कुछ लोगों पर यह भय इस कदर हावी हो जाता है कि उन्हें ऐसा लगता है कि वह मारने वाले हैं या उन्हें दिल का दौरा पड़ा है। हालांकि पैनिक अटैक पड़ने पर व्यक्ति को यह एहसास नहीं होता कि वास्तव में उन्हें इससे जीवन में कोई खतरा नहीं है। ऐसे में आप कुछ आसान टिप्स की मदद से पैनिक अटैक आने पर पीड़ित व्यक्ति की मदद कर उन्हें इन इस स्थिति से बाहर निकाल सकते हैं।

पैनिक अटैक के लक्षण
पैनिक अटैक एक ऐसी स्थिति है, जो किसी भी व्यक्ति को कभी भी और कहीं भी हो सकती है। इस समस्या से जूझने वाले व्यक्ति की अचानक ही दिल की धड़कन तेज हो जाती है। पसीना आना, सांस लेने में कठिनाई, पेट में ऐठन, चक्कर, घुटन महसूस होना आदि पैनिक अटैक के सामान्य लक्षण है। अगर किसी व्यक्ति को पैनिक अटैक आ जाए तो उन्हें तुरंत विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए, क्योंकि यह आपके जीवन को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है।

पैनिक अटैक के कारण
अक्सर हमें होने वाली समस्याएं हमारे खानपान, रहन-सहन और जीवनशैली से जुड़ी होती है। पैनिक अटैक भी इन्हीं समस्याओं में से एक है, जिसके कई सारे कारण हो सकते हैं। इस समस्या के कुछ कारण आम तो कुछ गंभीर भी हो सकते हैं। पैनिक अटैक के मुख्य कारणों में से कुछ निम्न हैं-

See also  सावधान: ए​क अंडरगारमेंट्स को कई दिन तक पहनते, ये गंदे अंडरगारमेंट्स कई सारे रोगों को भी बुलावा देते...

किसी भी चीज का तनाव होना
किसी कारण से भय का हावी होना
शराब या ड्रग्स का अत्यधिक सेवन
जरूरत से ज्यादा कैफीन पीने की आदत
दवाइयों का सेवन
भूतकाल में घटी कोई दर्दनाक घटना
दिमागी संबंधी कोई समस्या या ट्रॉमा होना
इन टिप्स से करें मदद
अगर आपके आसपास कोई व्यक्ति पैनिक अटैक का शिकार होता है, तो इन टिप्स की मदद से आप उनकी मदद कर सकते हैं।

उन्हें पानी दे
पानी व्यक्ति को शांत करने में मददगार साबित होता है। दरअसल पैनिक अटैक जैसी स्थिति में ठंडे पानी से व्यक्ति को शांत रखने के लिए पैरासिम्पेथेटिक नर्वस सिस्टम सक्रिय हो जाता है। इससे अटैक आने पर व्यक्ति को शांत करने में मदद मिलती है। ऐसे में पैनिक अटैक आने पर व्यक्ति के लिए ठंडा पानी मददगार साबित होगा। इसके लिए आप उनके हाथ या पैर पर पानी डाल सकते हैं या उनके चेहरे और गर्दन के चारों तरफ ठंडा पानी लगा सकते हैं।

पीड़ित व्यक्ति से बातचीत करें
अगर किसी व्यक्ति को पैनिक अटैक आया है, तो उससे बातचीत करें। साथ ही उन्हें बैठने के लिए एक आरामदायक जगह भी दें। बात करने और बैठने से उनका मन शांत होगा, जिससे उन्हें इस अटैक से राहत मिल सकेगी।

ग्राउंडिंग तकनीक का करें इस्तेमाल
पैनिक अटैक आने पर किसी व्यक्ति को शांत करने के लिए सभी पांच इंद्रियां मदद करती हैं। ऐसे में आप ग्राउंडिंग तकनीकी मदद ले सकते हैं। 5-4-3-2-1 यह एक सामान्य ग्राउंडिंग तकनीक है, जिसमें आप व्यक्ति से पांच चीजों को सूचीबद्ध करने के लिए कह सकते हैं। आप उनसे 5 ऐसी चीजों के बारे में पूछ सकते हैं, जिसे वह देख सकते हैं। चार ऐसी चीजें, जिसे वह छू सकते हैं। तीन ऐसी चीजें, जिसे वह सुन सकते हैं। दो चीजें जिसे वह सूंघ सकते हैं और एक चीज जिसे वह चख सकते हैं।