सीटेट महा परीक्षा आयोजित ,चार सौ अभ्यर्थियों ने लिया भाग

नालंदा। द डीप सीटेट क्लास बिक्रमगंज रोहतास के संयोजक डायरेक्टर कंचन कुमार ने बिक्रमगंज में हर साल की तरह इस बार भी सीटेट की महा परीक्षा का आयोजन किया ।हर साल सीटेट के मुख्य परीक्षा से पहले 4 से 5 महाटेस्ट का आयोजन ” द डीप सीटेट क्लास” करता है । कंचन कुमार के साथ कोचिंग के संचालक और प्रबंधक रितेश कुमार के मार्गदर्शन में इस परीक्षा का आयोजन डॉ नागेंद्र झा महिला कॉलेज बिक्रमगंज में सम्पन्न हुआ । इस परीक्षा में लगभग 400 से ऊपर आगामी सीटेट की परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी ने भाग लिया । यह परीक्षा आगामी सीटेट परीक्षा के लिए प्रतिभागियों के स्व आकलन, पूर्वाभ्यास और एक टॉनिकरूपी दवा का काम करता है ।

150 प्रश्नों के लिए ढाई घंटे का समय दिया गया था । इस परीक्षा में रोहतास के विभिन्न प्रखंडों और राज्य से बाहर के कुछ अभ्यर्थी भी शामिल थे । यह भारत सरकार की केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा से कतई कम नहीं थी । परीक्षा की जिम्मेदारी, निगरानी ,आकलन ,सर्वेक्षण इत्यादि के लिए भेदभाव रहित शिक्षकों और कोचिंग सहयोगी सदस्यों को परीक्षा के कर्तव्य पर रखा गया था । कंचन कुमार और रितेश कुमार समय-समय पर परीक्षा का फीडबैक बच्चों के बीच आकर लेते रहते थे । विद्यार्थियों के बीच इस परीक्षा को लेकर काफी उत्साह देखने को मिला ।

आमंत्रित सदस्यों ने भी इस परीक्षा का जायजा लिया । उन्होंने इस परीक्षा की तुलना बेहतर प्रतियोगी परीक्षाओं से की । कंचन कुमार एक मार्गदर्शक, पथ प्रदर्शक ,विद्यार्थियों के प्रति लगनशीलता और इनका वृहद दृष्टिकोण विद्यार्थियों की उपलब्धियों की ऊंचाई के शिखर पर पहुंचाता है ।इनके पढ़ाने का सरल तकनीक और तरीकों के चलते ही बिहार के विभिन्न सरकारी विद्यालयों में अनगिनत शिक्षक नौनिहालों के पढ़ाने के कर्तव्य पर विद्यमान हो चुके है । बताया कि पिछले सीटेट परीक्षा में संस्थान के 127 विद्यार्थी सफल हुए थे । जिसमें 53 विद्यार्थी सरकारी शिक्षक पद पर ज्वाइन किए है । आज के महापरीक्षा में निगरानी टीम के ओमप्रकाश सिंह ,प्रदीप कुमार, पंकज कुमार , अमन कुमार ,राजेश कुमार और अन्य महाविद्यालय के सहयोगी शिक्षक शामिल थे । जिसमें उक्त महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. अमरेंद्र कुमार मिश्रा का सहयोग अतुलनीय था । इस प्रकार की परीक्षा दो चरणों के बाद आगामी अल्प समय में भी लिया जाना है ।

See also  शेडनेट' में होगी मगही पान की खेती