नई सड़क हिंसा में फंडिंग करने के आरोपित मुख्तार बाबा सहित 26 के खिलाफ 3 एफआईआर दर्ज 

 
फर्जी हिबानामा के जरिए पाकिस्तानी नागरिक के नाम संपत्ति दर्ज कराई
कानपुर। नई सड़क हिंसा में जफर हयात हाशमी को फंडिंग करने के आरोपित बाबा बिरयानी के मालिक मुख्तार अहमद उर्फ मुख्तार बाबा का पूरा परिवार व अन्य लोगों पर शिकंजा कस गया है। पुलिस ने मुख्तार,उसके बेटे-बेटी, मां समेत 26 लोगों पर तीन एफआईआर दर्ज  की हैं। इन पर राम जानकी मंदिर, प्रेम नगर शिवमंदिर पर कब्जा करने का आरोप है। इन मुकदमों की तहरीरें जन शिकायत प्रकोष्ठ के जरिए पुलिस तक पहुंची थी। पुलिस जेल में बंद मुख्तार के बयान दर्ज करेगी।
बजरिया थाने में जूनियर हाईस्कूल बिनौर के प्रिंसिपल अदीबुल कदर ने पहली रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसमें मौला बख्श, शिवचरण गुप्ता, मुख्तार बाबा की मां हाजरा बेगम, मुमताज अहमद, मुश्ताक अहमद आदि को नामजद किया गया है। शत्रु संपत्ति संरक्षण संघर्ष समिति के सचिव अदीबुल कदर ने कहा है कि रामजानकी मंदिर परिसर में तमाम किराएदार थे। 1931 के दंगे के बाद हिंदू पलायन कर गए। पुजारी पूजा पाठ करते रहे। धोखाधड़ी कर मंदिर परिसर मौला बख्श ने अपने नाम करा लिया। फिर फर्जी हिबानामा के जरिए पाकिस्तानी नागरिक आबिद रहमान के नाम संपत्ति दर्ज करा दी। आबिद के जरिए संपत्ति मुख्तार बाबा की मां हाजरा बेगम के नाम बैनामा कर दी। मुख्तार, उसके भाई मुमताज और मुश्ताक ने इसे अपने नाम करा लिया। किराएदार जबरन बाहर कर बाबा स्वीट हाउस बना लिया।
किराएदार ने दर्ज कराई एफआईआर 
राम जानकी मंदिर का पूर्व किराएदार कंघी मोहाल निवासी एहसान उल हक अंसारी ने बजरिया थाने में मुख्तार बाबा, छुट्टन, सलाउद्दीन, मुबीन, महबूब आलम, महमूद उमर और तीन अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसमें उसने कहा है कि वह मंदिर परिसर में पुश्तैनी किराएदार था। मंदिर की संपत्ति संख्या 99/14 थी, जो आरोपितों ने फर्जीवाड़ा कर नगर निगम में 99/14 ए में दर्ज करा ली। मुख्तार ने उससे जबरन दुकान खाली करा ली थीं।
शिव मंदिर पर किया कब्जा
प्रेमनगर निवासी उदय शंकर निगम ने चमनगंज थाने में मुख्तार बाबा,उमर और मुख्तार बाबा की बेटी बेकनगंज निवासी नाज आयशा के खिलाफ चमनगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। निगम के मुताबिक मकान नंबर 88/52 शिव सहाय रोड प्रेम नगर में प्राचीन शिव मंदिर है। परिक्रमा करने के लिए इसी परिसर में एक कुआं भी बना है। नगर निगम में यह टेंपल ऑफ महावीर प्रसाद दर्ज है। पंचशाला में किराए के स्थान पर फ्री दर्ज है। मुख्तार बाबा ने मंदिर की जगह कोठरी दर्शाते हुए उसे अपनी बेटी नाज आयशा के नाम रजिस्ट्री करा ली है। इससे यहां पर हर वक्त तनाव का माहौल रहता है। इंस्पेक्टर चमनगंज ने बताया कि धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज बनाने और षड्यंत्र की एफआईआर दर्ज की गई है।
See also  नई सड़क पर हुए बवाल के मास्टरमाइंड को फंडिंग करने वाले राडार पर