लेखपालो का आन्दोलन जारी

उरई। लम्बित मांगो को लेकर लेखपालो का आक्रोश थमने का नाम नही ले रहा। बुधवार को तीसरे दिन भी उन्होंने अपना आन्दोलन जारी रखा और सरकार को चेतावनी दी कि लेखपालो को धमकाना बंद करे और उनकी न्यायोचित मांगो को लेकर शासनादेश शीघ्र जारी किया जाये।
पुरानी पेंशन, वेतन विसंगतियो के साथ पदनाम बदलने से लेकर अन्य मांगो को लेकर लेखपाल संवर्ग आक्रोशित है और पिछले काफी दिनो से तहसील स्तरों पर आंदोलन किया जा रहा है। इसको लेकर सरकार ने सख्ती बरतते हुये कार्यवाही की चेतावनी भी दी लेकिन संघ ने इससे बेपरवाह होकर आनदोलन को जरी रखने का एलान किया। बुधवार को तीसरे दिन भी कलेक्ट्रेट मे लेखपालो का आन्दोलन जारी रहा। धरना सभा को सम्बोधित करते हुये संगठन के जिलाध्यक्ष लायक सिंह ने कहा कि उत्तराखण्ड मे वेतन ग्रेड पे 2800 है जबकि उ.प्र. मे इसको दो हजार रखा गया है। एक ही पद होने के बाद भी वेतन मे बड़ी गड़बड़ी है। संवर्ग की पुरानी मांग है कि लेखपालो का पद नाम उप राजस्व निरीक्षक किया जाये। इसमे सरकार का कोई नुकसान नही है लेकिन इसमे भी कोई सुनवाई नही हुयी अैर न ही 201 मे पास आउट हुये लेखपालो को पुरानी पेंशन की मांग पूरी हुयी। उन्होंने कहा कि अब आन्दोलन सम्मानजनक समझौते के साथ ही समाप्त होगा साथ ही शासनादेश जारी होने पर ही लेखपाल आन्दोलन को खत्म करेंगे। लेखपालो के आन्दोलन को समर्थन देने पहुंचे राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ शाखा के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र राजपूत ने कहा कि संवर्ग की मांगे जायज है। इस मौके पर संगठन के मंत्री लाखन सिंह, राजेन्द्र कुमार, पुष्पेन्द्र शर्मा, देशराज, अखिलेश खरे सहित अनेक लेखपाल उपस्थित रहे।

=>
loading...
WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
E-Paper