पूरा संविधान बाबा साहेब ने अकेले ड्राफ्ट किया था : प्रो० दीक्षित

लखनऊ । राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने बुद्धवार को संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉ0 भीमराव अम्बेडकर के 61वें परनिर्वाण दिवस पर उन्हें श्रद्वांजलि अर्पित की इस दौरान पार्टी ने दारुलशफा स्थित ए ब्लॉक के कॉमनरूम में “सामाजिक न्याय का दर्शन“ शीर्षक पर एक गोष्ठी का आयोजन किया कार्यक्रम की शरुआत बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण के साथ हुयी  गोष्ठी को संबोधित करते हुए राकापा प्रदेश अध्यक्ष प्रो० रमेश दीक्षित ने कहा कि बाबा साहेब ने संविधान बनाकर देश के प्रत्येक व्यक्ति को समानता का और अपनी बात को कहने का अधिकार दिलाया जिससे समाज के सभी वर्गो का उत्थान हो सके  उन्होंने अपनी दूरदर्शिता की वजह से देश के लिए एक ऐसा संविधान तैयार किया जो सभी जाति और धर्म के लोगों की रक्षा करे और खासतौर पर वंचित तबको को उनका अधिकार दिला सके उन्होंने कहा कि सदियों तक एक तबके का देश के सभी संसाधनों पर एक अघोषित अधिपत्य था जिसके चलते एक बड़े समुदाय को सदियों तक उनका हक़ न मिल सका आजादी के संघर्ष के दौरान ही यह तय हो गया था कि आजादी मिलने के साथ ही इन दलित वंचित तबको को भी उनका हक दिलाया जायेगा और एक ऐसा दस्तावेज तैयार किया जायेगा जो उनके हकों को न सिर्फ दे बल्कि उनका संरक्षण भी करे देश का संविधान ड्राफ्ट करके उन्होंने इस काम को मूर्तरूप दिया
दीक्षित ने कहा कि आरक्षण को लेकर भी कई तरह की भ्रांतियां है, बाबा साहेब ने राजनैतिक आरक्षण को हर दस साल पर रिव्यु करने को कहा था आर्थिक आरक्षण पर बाबा साहेब ने कोई टिप्पणी नहीं की थी, सामाजिक न्याय की विरोधी ताकते इसको गड़बड़ करते हुए आरक्षण ख़त्म करने की बात करती हैं उन्होंने कहा कि जब तक देश छुआछुत, भेदभाव, गैरबराबरी रहेगी तब तक आर्थिक आरक्षण की ज़रूरत रहेगी डॉ. दीक्षित ने कहा कि पंडित नेहरु जानते थे कि इस काम को बाबा साहेब से बेहतर कोई व्यक्ति कर ही नहीं सकता इसलिए उस ड्राफ्टिंग कमेटी के चेयरमैन बाबा साहेब को बनाया गया, इसके साथ साथ उनके मदद करने के लिए 6 अन्य लोगों को भी रखा गया जिसमे से एक की कुछ माह बाद ही मृत्यु हो गयी थी और अन्य ने भी कोई जिम्मेदारी नहीं उठाई ऐसा दस्तावेजो में दर्ज है  उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय विरोधी ताकते अक्सर यह कुप्रचार करती है कि संविधान बनाने में बाबा साहेब का कोई अहम् रोल नहीं था, जबकि पूरा संविधान बाबा साहेब ने अकेले ड्राफ्ट किया था  गोष्ठी को मुख्यरूप से डॉ० रविकांत (प्रवक्ता लविवि) अरुण कुमार यादव (प्रदेश महासचिव राकापा) सामाजिक कार्यकर्ता रामकुमार और सुजीत घोष ने भी संबोधित किया।

=>
loading...
E-Paper