बिहार: पीड़िया के जुलूस में करेंट से नर्तकी समेत छह लोग जिंदा जले

गोपालगंज। बिहार के गोपालगंज जिले में भोरे थाना क्षेत्र के हुस्सेपुर टोला रावा रक्ता में सोमवार की शाम पीड़िया के जुलूस में करेंट से नर्तकी समेत छह लोग जिंदा जल गये। इसमें पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी, जबकि एक नर्तकी की हालत गंभीर होने पर सदर अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। मृतकों में दो की पहचान हो चुकी है, जबकि तीन अन्य मृतकों की पहचान नहीं हो पायी है।

पुलिस ने बताया कि हुस्सेपुर टोला रावा रक्ता होकर अकटहा पोखरा के पास जुलूस जा रहा था. ट्रैक्टर पर नर्तकियों का नृत्य हो रहा था। रावा रक्ता से जुलूस आगे जैसे ही बढ़ा, कि पहले से झुके हुए हाइटेंशन तार की चपेट में आने से पूरे ट्रैक्टर में करेंट दौड़ गया। इससे ट्रैक्टर पर सवार सभी लोग झुलस गये। करीब 18 लोग ट्रैक्टर पर सवार थे, जिसमें छह लोगों के बारे में जानकारी मिली है। जबकि अन्य लोगों का कोई अता-पता नहीं चल सका है।

पुलिस ने बताया कि मृतकों में दो की पहचान भोरे थाना क्षेत्र के कल्याणपुर प्रतिमा टोला निवासी स्व रामायण यादव के पुत्र (35) जीतन यादव व इसी गांव के सुशील पाल का पुत्र (22) रवि पाल के रूप में की गयी है। दोनों मृतक आर्केस्ट्रा देखने मेला में पहुंचे थे। वहीं, नर्तकी व अन्य मृतकों की पहचान नहीं हो सकी है। भोरे थाने की पुलिस देर शाम तक मामले में प्राथमिकी दर्ज नहीं कर सकी थी। शव को बरामद करने के बाद पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजने की कार्रवाई हो रही थी।

बताया जाता है कि सीवान के नौतन थाना क्षेत्र के बंगा मोड़ से झंकार आर्केस्ट्रा आया था। स्थानीय लोगों के मुताबिक ऑर्केस्ट्रा में चार नर्तकी, छह पुरुष कलाकार, दो साउंड ऑपरेटर शामिल थे। इसमें एक नर्तकी और दो पुरुष कलाकार के शव की पहचान नहीं हो सकी है, जबकि गंभीर रूप से झुलसी नर्तकी की भी पहचान नहीं हो पायी है। आर्केस्ट्रा का संचालक कुमार विशू व मालकिन स्वीटी कुमारी बतायी गयी है।

गोपालगंज के पुलिस अधीक्षक मृत्युंजय कुमार चौधरी के मुताबिक पांच लोगों की मौत की पुष्टि है। एक नर्तकी की हालत गंभीर है, जिसे इलाज के लिए सदर अस्पताल रेफर किया गया है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.।

=>
loading...
E-Paper