भारत और अमेरिका के बीच सहयोग बढ़ रहा – मोदी

मनीला। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से बातचीत की। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति से कहा कि कहा कि दोनों देश द्विपक्षीय संबंधों से भी आगे बढ़ कर एशिया के भविष्य के लिये काम कर सकते हैं। यह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में रणनीतिक मुद्दों पर दोनों देशों के बीच बढ़ती सहमति को प्रतिंबित करता है। फिलीपीन में आसियान शिखर सम्मेलन के दौरान अलग से हुई बैठक में मोदी ने ट्रंप को आश्वस्त किया कि अमेरिका और दुनिया को भारत से जो भी अपेक्षाएं हैं, देश उन पर खरा उतरने का प्रयास करेगा।

ट्रंप ने अपनी इस एशिया यात्रा के दौरान भारत के बारे में अच्छी अच्छी बातें की है। मोदी ने इसके लिए अमेरिकी राष्ट्रपति का धन्यवाद दिया। इससे पहले भारत, अमेरिका, जापान और आस्ट्रेलिया ने चतुर्पक्षीय गठबंधन को आकार देने को लेकर इन देशों के अधिकारियों की बैठक हुई थी। इसका मकसद रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत क्षेत्र को मुक्त, खुला और समावेशी बनाये रखना है। उसके एक दिन बाद मोदी-ट्रंप की यह बैठक हुई।

मोदी ने कहा, ‘‘भारत और अमेरिका के बीच सहयोग बढ़ रहा है। दोनों देश द्विपक्षीय महत्व के मुद्दों पर सहयोग से और ऊपर जा कर सहयोग कर सकते हैं तथा दोनों देश एशिया और दुनिया के भविष्य के लिये काम कर सकते हैं….हम एक साथ कई मुद्दों पर आगे बढ़ रहे हैं।’’ अमेरिका रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत-अमेरिका के बीच बड़े सहयोग की वकालत करता रहा है। यह वह क्षेत्र है जहां चीन अपनी सैन्य मौजूदगी बढ़ा रहा है। मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप की सराहना करते हुये कहा कि उन्होंने अपने एशिया दौरे के दौरान जब भी मौका मिला, भारत की प्रशंसा की।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘…हाल के दिनों में राष्ट्रपति ट्रंप जहां कहीं भी गये और जब कभी भी उन्हें भारत के बारे में बोलने का मौका मिला उन्होंने भारत के बारे में बेहद अच्छी राय व्यक्त की।’’ मोदी ने कहा, ‘‘मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि दुनिया और अमेरिका की हमसें जो भी अपेक्षायें हैं, भारत ने हमेशा उन्हें पूरा करने के लिये प्रयास किये हैं और हम भविष्य में भी ऐसा करते रहेंगे।’’ ट्रंप ने अपनी तरफ से प्रधानमंत्री मोदी को एक दोस्त बताया।

व्हाइट हाउस की तरफ से जारी बयान के अनुसार अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां हैं और हम पहले भी मिल चुके हैं। वह हमारे दोस्त बन गये हैं। वह शानदार काम कर रहे हैं। कई चीजों को सुलझाया जा चुका है और हम साथ काम करना जारी रखेंगे।’’ ट्रंप ने कहा कि मोदी ‘‘भारत में विभिन्न पक्षों को साथ लाने का शानदार काम कर रहे हैं। ये मैंने सुना है और यह अच्छी खबर है। भारत से कई अच्छी खबरें आ रही हैं।’’ माना जाता है कि दोनों नेताओं ने परस्पर हितों के कई अन्य मुद्दों के साथ ही क्षेत्र में सुरक्षा परिदृश्यों पर चर्चा की। इसके साथ ही द्विपक्षीय व्यापार को बढ़ाने को लेकर भी दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई।

दक्षिण चीन सागर में चीन की बढ़ती आक्रामकता की पृष्ठभूमि में चतुर्भुज गठबंधन की पहल की गयी है। सामरिक महत्व के हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका भारत के लिये बड़ी भूमिका की वकालत कर रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा ‘‘हिंद प्रशांत’’ शब्द के इस्तेमाल से इस आशंका को बल मिला कि इसका इस बात से लेना हो सकता है कि वाशिंगटन, चीन को जवाब देने के लिये दरअसल अमेरिका, जापान, ऑस्ट्रेलिया और भारत के तथा कथित चतुर्भुज सामरिक गठबंधन की भूमिका की तैयारी कर रहा है।

ट्रंप ने शनिवार को भारत की ‘अद्भुत’ वृद्धि की तारीफ करने के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी की भी प्रशंसा करते हुये कहा था कि वह इस विशाल देश और उसके लोगों को साथ लाने के लिये सफलतापूर्वक काम कर रहे हैं। वियतनाम के दानांग शहर में एशिया प्रशांत आर्थिक सहयोग (एपेक) के वार्षिक शिखर सम्मेलन से इतर सीईओ के एक समूह को संबोधित करते हुये ट्रंप ने कहा था कि भारत हिंद- प्रशांत के क्षेत्र में एक ऐसा देश है जो प्रगति कर रहा है।

 

=>
loading...
E-Paper